इंदौर, (सोशल रिपोर्टर) : चुनाव का माहौल खत्म होने के बाद रविवार दोपहर तेजाजी नगर से जब ढ़ोल-ताशों के साथ जुलूस निकल रहा था तो लोग कौतुहलवश रुक-रुक कर देख रहे थे। हार-मालाओं से लदा एक शख्स बीचो-बीच चल रहा था लेकिन किसी राजनीतिक पार्टी के झंडों की जगह लोगों के हाथों में तिरंगा था।son

दलअसल, ये कोई चुनावी रैली नहीं बल्कि सेना से रिटायर होकर 18 साल बाद घर लौटे सार्जेंट राजेश भायरे के सम्मान में जुटे मोहल्ले वालों की भीड़ थी। तेजाजी नगर चौराहे से उनके घर तक लोगों ने उन्हें कंधे पर बैठाकर घर पहुंचाया। उन्हें खुद भी नहीं पता था कि उन्हें सम्मान देने के लिए मोहल्ले के बच्चे और बड़े सभी इकट्‌ठा होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here