इंदौर, (सोशल रिपोर्टर) : देशभर में लगाए जा रहे बेटी-बचाओं, बेटी पढाओं के नारें को सच कर दिखाया है एक पिता ने जो उत्तर-प्रदेश के नोएडा में रहते है। दरअसल, यहां एक पिता ने अपनी सरकारी नौकरी छोड़ कर अपना पूरा ध्यान अपनी बेटियों के स्पोर्ट्स पर लगा रखा है ताकि एक दिन वे देश के लिए नेशनल खेलकर गोल्ड मेडल लायें।

बता दे कि इस पिता का नाम रमेश रावत है, जो कस्टम विभाग में नौकरी करते थे। बेटियों के लिए वे अब हर रोज सुबह 4 बजे उठकर उनके साथ मेहनत करते हैं। उनका दिन कसरत के साथ शुरू होता है।

जानकारी के मुताबिक उनकी बड़ी बेटी मानसी स्टेट बॉक्सिंग चैंपियनशिप में रजत और कांस्य पदक जीतने के बाद पिछले दिनों यूथ नेशनल में खेल चुकी है। वहीं छोटी बेटी 12वीं में है और अब प्रदेश स्तर की मुक्केबाजी प्रतियोगिता के लिए तैयारी कर रही है।

उनके इस जज्बे की कहानी तारीफ़ करने लायक है। इतना ही नहीं बेटियों के सपने को पूरा करने के लिए रमेश ने बताया कि फिलहाल उनकी पत्नी ने जेवर गिरवी रखकर बेटी की कोचिंग की फीस दी है। उसे अगले महीने नेशनल खेलना है और उनका मानना है कि उसकी कोचिंग जेवरों से ज्यादा जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here